Spread the love
  • 3
    Shares

शिशुओं को ठोस आहार कैसे देना चाहिये? जूस, पानी, दाल का पानी कैसे दें? Introducing Solids to Baby

How to introduce Solids, Can I give Juice, Water, Dal ka Pani for Babies, kannada hindi

शिशुओं को ठोस आहार कैसे देना चाहिये? जूस, पानी, दाल का पानी कैसे दें? Introducing Solids to Baby

बच्चे को ठोस आहार शुरू करना एक महत्वपूर्ण चरण हैं । इस पड़ाव को सफलतापूर्वक पहुंचने के लिए माता-पिता को बधाई हो !! मेरे पिछले लेख में, मैंने ठोस आहार को पेश करने के बारे में लिखा था | इससे पहले आप ज़रूर यह लेख पढ़े जिससे आपको शिशुओं को कैसे ठोस आहार देना चाहिये की पूरी जानकारी मिलेंगी

ठोस आहार को शुरू करने के कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण पहलुओं पर मैंने ध्यान दिया है, जिनमें से कुछ विवादास्पद हैं और कुछ लोग लाभ के लिए गलत जानकारी देते हैं। इस लेख के बारे में अधिक जानने के लिए कृपया अंत तक पढ़िए।

शिशुओं को ठोस आहार कैसे देना चाहिये? | How to Introduce Solids to Baby?

(अंत में दिए गए विडियो को देखना मत भूलिए )

How to introduce Solids, Can I give Juice, Water, Dal ka Pani for Babies, kannada hindi

घर में ताजा खाना पकाने के लिए प्रधानता देना चाहिए :

  • अगर आप बाहर हो या इसके अलावा जब आप छुट्टी के लिए बाहर जाए तो तब खाना नहीं बना सकते हैं|
  • बच्चों के लिए घर का बना ताजा खाना अत्युत्तम है।
  • घर में पका खाना पेश करने से खाने के बनावट, मात्रा और पोषण और आपके के बच्चे के स्वाद और पसंद के बारे में जान सकतें है।
  • बच्चे को रसायनों और संरक्षकों युक्त खाना देने से बच सकते है |
  • ठोस खाद्य पदार्थों को शुरू करने में भी मदद करता है। यहाँ बिना रसायनों और संरक्षकों का जैविक शिशु आहार उपलब्द है |

शिशुओं को ठोस आहार पेश करने के लिए कुछ मुख्या सुचनाए :

  • फल और सब्जी के रस / प्यूरी से शुरू करना चाहिए और बाद में धीरे-धीरे दलिया, उंगली से खानेवाला आहार  और सामान्य पारिवारिक खाद्य पदार्थों को पेश कराना चाहिए ।
  • बच्चे को आहार पेश से पहले भोजन के तापमान का परीक्षण करना चाहिए | शिशुओं किए लिए भोजन गर्म खाना अच्छा है।
  • ऊँचा कुर्सी– High Chair, बूस्टर कुर्सी – Booster Chair का इस्तेमाल करें जिससे बच्चे को आरामदायक बैठने के लिए जगह बनाएं।
  • बच्चा के पेट भरते ही रुके।
  • केवल स्वच्छ बर्तन का प्रयोग करना चाहिए। सुबह नए खाद्य पदार्थों को पेश करना चाहिए क्यंकि एलर्जी के लक्षणों की जांच करने के लिए आसान होगा |
  • फार्मूला दूध के साथ खाना न पकाए ।
  • ज्यादा जानकारी के लिए 6 आहार जो एक साल तक बच्चो को मना है लेख पढ़ें

शिशु आहार के दिशानिर्देश

  • 6 महीनों के शिशुओं के लिए प्यूरी से शुरू करें ।
  • धीरे-धीरे भोजन की मात्रा बढ़ाएं।
  • हर 3-4 सप्ताह में भोजन के नए बनावट का परिचय देना चाहिए ।
  • 7 महीने के बच्चों को मैश किए हुए आहार देना शुरू करना चाहिए।
  • 8 महीने के बच्चों को थोडा मसालेदार खाना जो उंगली( हाथ ) से भोजन उठाकर खाना देना शुरू करना चाहिए।
  • 9 महीने के बच्चों को उंगली (हाथ से ) भोजन को पूरी तरह से खाने के लिए मौका देना चाहिए | कोई भी मैश किए हुए भोजन कम कर दें ।
  • 10 महीने के बच्चों को सभी सामान्य पारिवारिक भोजन को बिना नमक, चीनी और कम मसाले के साथ शुरू करना चाहिए।
  • 12 महीनों के बच्चों को आवश्यक होने पर कम मसाले और थोड़ा नमक के साथ भोजन देना शुरू करना चाहिए।

क्या हम शिशुओं को जूस दे सकते हैं?

  • बच्चे को रस के 100 से 120 ml पिला सकतें हैं।
  • बोतल / कप से रस न खिलाएं और भोजन के साथ और पूरे दिन रस नहीं पिलाना चाहिए ।
  • रस देने से बच्चे के स्तन के दूध में कोइ कमी नहीं होना चाहिए, इससे पोषण कम होता है।
  • बहुत ज्यादा रस पीने से दांतों की समस्याएं और मोटापा हो सकता है।
  • केला, चिकू, सेब, नारंगी जैसे ताजा मुलायम फल खिलाना बेहतर है।

क्या हम बच्चों को दाल का पनी या चावल का पानी दे सकते हैं ?

  • दाल का पनी या चावल का पानी में प्रोटीन या वसा नहीं होता है, जो बच्चों के लिए आवश्यक है, जो ठोस आहार में आवश्यक होता हैं।
  • विटामिन बहुत कम मात्र में होता हैं।
  • शुद्ध पके हुए दाल का पानी और घर का बना चावल का सेरेलाक खिला सकतें है ।
  • यह बच्चे के स्तनपान में भी दखल कर सकता है जो एक साल तक मुख्य भोजन है|

शिशुओं के लिए पानी

  • बच्चों को ठोस आहार शुरू करने के बाद भोजन के साथ पानी दे सकते हैं |
  • बच्चों के लिए 100 ml की मात्र प्रति दिन पानी दे सकते हैं।
  • स्तनपान के दूध में 88% पानी होता है|  इसलिए स्तनपान कराने वाले बच्चों को पानी की आवश्यक नहीं होता है, गरमी के मौसम में भी आवश्यकता नहीं होती है ।
  • बच्चों को फॉर्मूला दूध खिलाने पर भी ज्यादा पानी की ज़रूरत नहीं होती लेकिन गर्मी के मौसम में थोड़ा सा पानी दे सकते हैं।

शिशुओं के आहार को स्वादिष्ट कैसे बनायें? 

  • बच्चे के भोजन के लिए प्राकृतिक स्वाद मसालों को इस्तेमाल कर सकतें है ।
  • शीशुओं को 6 महीने के उम्र से जीरा, दालचीनी, इलायची पाउडर के एक चिटकी इस्तेमाल किया जा सकता है|
  • काली मिर्च, धनिया, मिर्च पाउडर और अन्य जड़ी बूटियों को भी धीरे-धीरे पेश कर सकतें हैं ।
  • अदरक, नींबू, प्याज, और लहसुन भी इस्तेमाल कर सकतें हैं ।
  • फलों के शुद्ध, प्राकृतिक रस, खजूर का सिरप , किशमिश का सिरप और खजूर का पाउडर जैसे प्राकृतिक मिठास को इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • बच्चे के भोजन में ज्यादा मिठा खाने से बच्चों को अधिक मीठा खाने की आदत हो सकता है | दांतों में दर्द हो सकता है और भविष्य में सामान्य भोजन खाना पसंद नहीं करेंगे।

जैसा कि लेख में बताया गया है कि कुछ बाल रोग विशेषज्ञों और ऑनलाइन वेबसाइटों द्वारा लोगों को गलत जानकारी मिलता हैं। “इतने सारे स्वास्थ्य पेशेवरोंक की गलत सलाह से गंभीर समस्या हो सकता है | इसलिए पारंपरिक प्रथाओं के बारे में और स्वास्थ्य पेशेवरों के प्रशिक्षण के बारे में महत्वपूर्ण प्रश्न उठाती है और शक होता है | खासकर माता-पिता को इंटरनेट पर विभिन्न वेबसाइटें हैं जो गलत सिफारिश कर रही हैं जैसे दाल पानी को भोजन के रूप में देना स्पष्ट रूप से बड़ी संख्या में लोगों को गलत संदेश दे रहें हैं “|

निर्देश : http://medind.nic.in/icb/t07/i10/icbt07i10p962.pdf

Video: शिशुओं को ठोस आहार कैसे देना चाहिये? जूस, पानी, दाल का पानी कैसे दें? Introducing Solids to Baby

नियमित अपडेट के लिए कृपया हमसे InstagramFacebook Page और YouTube Channel से जुड़ें |


Spread the love
  • 3
    Shares